ये हैं अमेरिका का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर,इस मंदिर की भव्यता देख अभिभूत हो जायेंगे आप

0
392

मंदिर के अंदर का भव्य दृश्य जिसे देख आप हो जाएंगे विस्मृत-न्यू जर्सी। ये हैं अमेरिका के न्यू जर्सी राज्य के रॉबिंसविले में स्तिथ स्वामीनारायण संप्रदाय ने मंदिर, दावा है कि यह अमेरिका में अबतक का सबसे बड़ा मंदिर है। मंदिर के निर्माणकर्ता बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था के अनुसार यह मंदिर 162 एकड़ में फैली है। मंदिर की कलाकृति को प्राचीन भारतीय संस्कृति को ध्यान में रखकर बनया गया है।Pratishtha_Aug9_10_MM14_01मंदिर बनाने में करीब 108 करोड़ रुपए संस्था के अनुसार, यह मंदिर 134 फीट लंबा और 87 फीट चौड़ा है, जिसमें 108 खंभे और तीन गर्भगृह बनाए गए हैं। मंदिर को लेकर दावा किया जा रहा है कि यह मंदिर भारतीय वास्तुशास्त्र और शिल्पशास्त्र के मुताबिक बनी है।



इस मंदिर के निर्माण में करीब 108 करोड़ रुपए यानी 1.8 करोड़ यूएस डॉलर की लागत आई है। मंदिर को बनाने के लिए इटालियन करारा संगमरमर (मार्बल) का उपयोग हुआ है। इन पत्थरों पर नक्काशी का पूरा काम भारत में ही हुआ था, जिसे बाद में न्यूजर्सी पहुंचाया गया।
0_1431000777यूं तो America में अक्षरधाम मंदिर कई शहरों में बने हैं जैसे एटलांटा, शिकागो, ह्यूस्टन, लॉस एंजिलिस सहित टोरंटो-कनाडा में भी यह मंदिर हैं लेकिन इसकी मूल संस्था बोकसंवासी श्रीअक्षर पुरूषोत्तम स्वामी नारायण द्वारा गांधी नगर गुजरात और दिल्ली के यमुना तट पर बने मंदिर विशाल हैं. गुजरात गांधी नगर का अक्षरधाम मंदिर 23 एकड़ जबकि दिल्ली का 60 एकड़ जमीन में बना है. लेकिन बन रहा राबिंसविल का अक्षरधाम मंदिर न केवल इनसे बड़ा बल्कि विश्व का सबसे बड़ा मंदिर है.98b8ec645ea873d311d7481a508005d2
विश्व के सबसे बड़े अक्षरधाम मंदिर का निर्माण कार्य साल 2010 में शुरू हुआ था और अगस्त 2017 में इसका विधिवत उद्घाटन होगा. 1830 में दिवंगत हुए संस्था के स्वामी नारायण भगवान को समर्पित इस मंदिर का निर्माण 95 वर्षीय प्रमुख स्वामी महाराज की देखरेख में चल रहा है. चार मंजिले इस मंदिर में भारतीय की संस्कृति एंव इतिहास संबंधी म्यूजियम तथा युवा केंद्र का निर्माण भी किया जाएगा. संयुक्त रूप से यह मंदिर भारत के उत्तर में बने मंदिरों तथा दक्षिण भारतीय वास्तुकला पर आधारित है. इसके पिलर्स पर महाभारत, रामायण तथा प्राचीन भारतीय संस्कृति संबंधी चित्र बनाए गए हैं. इस मंदिर के लिए दीवारों और पिलर में लगने वाली मूर्तियां राजस्थान के डुंगरपुर के संगवाड़ा व पिंडवाड़ा में 2000 कारीगरों द्वारा बनाई जा रही हैं.An-image-of-a-hindu-temple-in-the-USAगौर हो इस भव्य मंदिर में सभी हिंदू देवी – देवताओं की मूर्तियां स्थापित की गई हैं. संस्था के धार्मिक विद्वानों की आदमकद मूर्तियां भी लगाई गई हैं. मंदिर के जरिये भारतीय संस्कृति मुख्यत: प्रेमभाव, प्रार्थना, अहिंसा तथा नि:स्वार्थ सेवा का संदेश दिया जाएगा. बर्चवुड में रहने वाले उत्तराखंड एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ America के सचिव अमित पांडे कहते हैं कि न्यू जर्सी में भारी तादाद में भारतीय रहते हैं और यहां बहुत से मंदिर हैं लेकिन विश्व का सबसे बड़ा मंदिर यहां बनने से हम सब उत्साहित हैं.c25f59749ee03d253a0ab0d391ac3846HinduTemple01Portfolio-Religious_BAPS_1temple-2temple27n-4-webtemple27n-5-webtemple27n-6-webtemple27n-7-web (1)temple27n-7-webtemple27n-8-webWorlds-Largest-Hindu-Temple-300x200

Comments

comments