हनीप्रीत ने पुलिस को राम रहीम को लेकर ऐसा कुछ कहा की पुलिस रह गई दंग …..

0
118

पंचकूला हिंसा के लिए सवा करोड़ रुपए बांटे जाने की बात हनीप्रीत ने कबूली है। हालांकि, वह अपने वकील के कहने पर पुलिस जांच में सहयोग नहीं कर ही है। फिर भी २५ अगस्त को हुए दंगों में हनीप्रीत का रोल पता करके कोर्ट में पेश करेंगे, जांच के चलते सभी जानकारी शेयर नहीं कर सकते। यह कहना है पंचकूला पुलिस कमिश्नर एएस चावला का। वे यहां शुक्रवार को मीडिया से रूबरू हुए।

पुलिस हनीप्रीत से न तो कुछ उगलवा नहीं पा रही है, न ही कोई सख्ती कर पा रही है। हनीप्रीत ने कोर्ट में कहा है कि पुलिस टॉर्चर कर रही है। उसने पुलिस से कहा है कि वो अपने पापा के पास जाना चाहती है, क्योंकि उनकी कमर में दर्द होगा। राम रहीम को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट द्वारा सुनाई गई बीस साल की सजा को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में चुनौती दे दी गई है। इसके साथ ही दोनों विक्टिम साध्वियों की तरफ से भी सजा को बढ़ाकर उम्र कैद में तब्दील किए जाने की मांग की गई है। कोर्ट में कहा था-पुलिस टॉर्चर कर रही है.
हनीप्रीत ने अपने वकील को बताया था कि पुलिस उसे टॉर्चर कर रही है। उसने कोर्ट में पेशी के दौरान भी यही बात दोहराई थी। इसके चलते पुलिस अफसरों को सफाई देनी पड़ी थी। लेकिन अब एहतियात बरतते हुए पुलिस हनीप्रीत से सख्ती नहीं कर रही है।
फरारी के दौरान पंजाब में हनीप्रीत ने कई बार वकीलों से मुलाकात की थी। अब पकड़े जाने के बाद वह रटे रटाए जवाब दे रही है।
पुलिस का मानना है कि जब उसके पकड़े जाने की आशंका थी, तभी वकीलों ने पहले से ही उसे सिखा-पढ़ा दिया। इस बीच पंचकूला पुलिस की टीम शनिवार को हनीप्रीत को लेकर हरियाणा के कुछ जिलों में गई। तीन जगहों पर पुलिस ने चेकिंग की, लेकिन खाली हाथ ही लौटना पड़ा। रोहतक और फतेहाबाद के पास उन जगहों को खंगाला गया, जहां वो सिरसा के बाद रुकी थी।
वह दर्द से परेशान होंगे, मेरा वहां होना जरूरी है

एक अधिकारी ने नाम छापने की शर्त पर दैनिक भास्कर को बताया कि हनीप्रीत ने तीन दिनों के दौरान कई बार डॉक्टर्स और महिला पुलिस अधिकारियों से कहा कि उसे डेरा प्रमुख के पास भेज दो। उसने कहा, “पापाजी की कमर में दर्द रहता है। वह इस दर्द से परेशान होंगे, इसलिए मेरा वहां होना जरूरी है। एक डॉक्टर ने हनीप्रीत से पूछा भी कि क्या तुम डॉक्टर हो या फिर कोई डिग्री ली हुई है जो बाबा के दर्द होने पर वहां जाने की बात कह रही हो।”वहीं, पुलिस को हनीप्रीत के एक मोबाइल का सुराग मिल गया है। यह मोबाइल अब किसी और के पास रखवाया गया है। पुलिस को उस शख्स की जानकारी है। उससे कॉन्टैक्ट किया जा रहा है।
हाईकोर्ट में राम रहीम ने लगाई पिटीशन
राम रहीम को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट द्वारा सुनाई गई 20 साल की सजा को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में चुनौती दे दी गई है। इसके साथ ही दोनों विक्टिम साध्वियों की तरफ से भी सजा को बढ़ाकर उम्र कैद में तब्दील किए जाने की मांग की गई है। दोनों पिटिशन पर एक साथ ही सोमवार को जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस सुधीर मित्तल की बेंच सुनवाई करेगी।

पिटिशन में कहा गया कि सीबीआई की कोर्ट ने सभी फैक्ट्स को कंसीडर नहीं किया। महज अफवाहों के आधार पर ही सजा सुना दी गई। अपील में कहा गया है कि बाबा का मेडिकल तक नहीं कराया गया। यह जानना भी जरूरी नहीं समझा गया कि बाबा रेप कर भी सकते हैं या नहीं। यही नहीं दो अलग अलग डेरों में अलग अलग समय पर हुए रेप के मामलों को एक साथ कर सीबीआई ने केस दर्ज कर लिया। इसमें भी विक्टिम एक साल तक कुछ नहीं बोलीं। अपने घर वालों को भी कुछ नहीं बताया। अगर बताया तो फिर वे एक साल तक चुप क्यों रहे। ऐसे में आरोप साबित करने में खामियों के बावजूद जज ने पूर्वाग्रह के आधार पर ही सजा सुना दी।

Comments

comments