कमजोर नहीं, बहुत ज्यादा खास होती हैं ज्यादा रोने वाली लड़कियां, होते हैं ये सारे गुण…

0
195

जब आपके आसपास कोई लड़का रोने लगता है, तब उसको ये कहा जाता है ”तू क्यों लड़का होकर लड़कियों की तरह रो रहा” ऐसा इसलिए कहा जाता है, क्योकि बहुत सी लड़कियां छोटी-छोटी बातों को दिल पर ले लेती हैं और रोने लग जाती हैं. कहा जाता है की छोटी-छोटी बातों पर रोने वाली लड़कियां बहुत ज्यादा कमजोर होती हैं. ऐसी लड़कियों से लड़के खुद को दूर रखने में ही भलाई समझते हैं, लेकिन आपको ये बात जानकार हैरानी होगी की बात-बात पर रोने वाली लड़कियां अंदर से बहुत ज्यादा मजबूत और गुणों से भरी हुई होती हैं. जी हाँ ये बात पूरी तरह से सच है और इस बात का खुलासा कुछ दिन पहले हुए एक शोध में हो चुका है, तो चलिए आप भी जान लीजिये ज्यादा रोने वाली लड़कियों में होते है ये सब गुण.

1. मजबूत

हमेशा कहा जाता है की बात-बात पर रोने वाली लड़कियां अंदर से कमजोर होती हैं, लेकिन ये बात बिलकुल गलत है, ऐसी लड़कियां अंदर से बहुत मजबूत होती हैं. इस तरह की लड़कियां एक बार रोने के बाद अपने किसी भी गम को हंसकर सह लेती हैं.

2. बीमारियों से रहती है दूर

एक बार मन भरके रोने से इनका मन शांत हो जाता है और इनके दिमाग में चल रही सारी परेशानियां भी दूर हो जाती हैं. जिसकी वजह से ज्यादा रोने वाली लड़कियों के दिमाग में किसी भी तरह का कोई तनाव नहीं होता और कोई भी बीमारी इनको नहीं हो सकती.
3. हद से ज्यादा प्यार करने वाली

छोटी-छोटी बातों पर रोने वाली लड़कियां अपने पार्टनर और परिवार के लोगों से हद से ज्यादा प्यार करती हैं, वो उनके खुद से दूर होने के ख्याल से ही सहम जाती हैं यही सबसे बड़ी वजह है की ऐसी लड़कियां कभी भी किसी का दिल दुखाने के बारे में सोच भी नहीं सकती.

4. सबसे अच्छी दोस्त

रोने वाली लड़कियां प्यार करने के साथ-साथ बहुत ज्यादा ख्याल रखने वाली भी होती हैं, मुसीबत के समय में ये अपने दोस्तों और परिवारवालों को कभी भी अकेला नहीं छोड़ती.
5.आसानी से समझ जाती हैं दूसरों की भावनाएं

बहुत ज्यादा इमोशनल होने की वजह इस तरह की लड़कियां किसी की भी भावनाओं , दुःख-दर्द को जल्दी से समझ लेती हैं. ये उन लोगों में से एक होती है जो दूसरों के दर्द पर मरहम लगाती हैं.

6. इमोशनल इंटेलिजेंस

शोध में कहा गया है कि जो भी लड़कियां बहुत ज्यादा इमोशनल होती हैं, उनके दिमाग में किसी भी तरह का तनाव बहुत कम होता है, जिसकी वजह से इनमें सोचने की क्षमता बहुत ज्यादा बढ़ जाती हैं, इसलिए दूसरी लडकियों के मुकाबले ये लड़कियां क्रिएटिव वर्क ज्यादा करती हैं.

Comments

comments