चोटी कटने की घटना सच या कोरी अफवाह …पढ़े पूरी जानकारी

0
300

राजस्थान के बाद हरियाणा के झज्जर, मेवात, रोहतक जिले और अब गुरुग्राम और दिल्ली… चोटी गैंग का कहर और दहशत जारी है. चोटी गैंग महिलाओं की चोटी काट देता है. पुलिस इन मामलों की जांच कर रही है लेकिन न तो कुछ सुराग मिल रहा है और न ही कोई प्रत्यक्षदर्शी. ऐसे में चोटी कटने की घटनाओं को लेकर यह तय होना मुश्किल हो पा रहा है कि यह पूरी तरह से कोरी अफवाह है और अपराधियों का कोई ऐसा गैंग नहीं है या फिर यह वाकई एक सोची समझी खुराफाती साजिश काे तहत किया जा रहा है. सवाल यह भी है कि यदि इसके पीछे किसी गैंग का हाथ है तो वह ऐसा क्यों कर रहा है… वहीं यूपी पुलिस ने अलर्ट जारी कर कहा है कि यह सब अफवाह है, इसमें कोई गैंग शामिल नहीं.





1- नब्बे के दशक में वे लोग जो किशोर वय: या उससे ऊपर की आयु के थे, उन्हें याद होगा हिन्दुओं के देवता गणेश की मूर्तियों द्वारा दूध पीने की बातें सामने आई थीं. यह खबर फैल गई थी कि गणेश की प्रतिमा दूध पी रही है. आलम यह था कि देशभर में लाखों लोगों ने इसे ट्राई करना शुरू कर दिया. यह सितंबर 1995 की सुबह भगवान गणेश की मूर्ति के चम्मच से दूध पीने की खबर बहुत तेजी से फैली.

2- साल 2001 में ‘मंकी मैन’ की अफवाह ने जोर पकड़ा. दिल्ली में सैकड़ों लोगों पर मंकी मैन ने कथित रूप से हमला किया. हालांकि लोग दावा करते कि उन्होंने मंकीमैन को दौड़ते भागते और छतों को लांघते दूर से देखा है. बीबीसी हिन्दी की रिपोर्ट के मुताबिक यह पूरा मामला अफवाह का मामला साबित हुआ.

यह भी पढ़ें- कौन काट रहा है महिलाओं की चोटी? रहस्‍य से पर्दा हटाने में पुलिस नाकाम

3- साल 2002 में उत्तर प्रदेश में मुंहनोचवा का खौफ फैला हुआ था. कहा जा रहा था कि एक आदमी जिसका मुंह जानवर जैसा है वह लोगों के मुंह नोंचकर चला जाता है और जिसके भी मुंह पर वह हमला करता है, उसके जख्म हो जाते हैं जो कभी ठीक नहीं होते. आदमी की मृत्यु तक होने की बातें कही गईं. इसे पुलिस प्रशासन अफवाह करार देती रही और लोगों को समझाती रही.

4- साल 2006 में एक दिन अचानक हजारों लोग मुंबई के एक समुद्र तट पर जुटने लगे. मोबाइल से लेकर ईमेल के जरिए लोगों तक यह खबर पहुंचने लगी कि शहर का समुद्र का पानी मीठा हो गया है और यह पूरी भीड़ इस मीठे पानी का टेस्ट लेने और भरकर ले जाने के लिए उमड़ पड़ी थी.

5- साल 2016 में नोटबंदी के दौरान अचानक यह खबर उड़ने लगी कि बाजार से नमक खत्म हो रहा है. इसके लिए कहा गया कि नमक की किल्लत हो गई है और यह जल्द ही 1000 रुपये किलो में मिलेगा और हो सकता है कि मिलना ही बंद होद जाए. अफवाह यूपी, दिल्ली, हरियाणा तक फैली. अफवाह के बाद दुकानों पर नमक खरीदने वालों की लंबी लाइनें लग गईं. जबकि, असल में ऐसी कोई किल्लत नहीं थी.




यह सच है या अंधविश्‍वास है, लेकिन लोग इससे बेहद परेशान हैं। उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान से होते हुए महिलाओं के चोटियां (बाल) की दहशत पंजाब भी पहुंच गई है। बठिंडा में दो महिलाओं के सिर के बाल काटे जाने से लोग सकते में हैं। फाजिल्‍का में भी एक महिला के बाल काटने का मामला सामने अाया है।

बठिंडा की चंदसर बस्ती की पीडि़त महिला सपना ने बताया कि वह खाना तैयार कर रही थी इसी बीच वह बाथरूम में गई। बाथरूम में जाते ही उनकी आंखों के आगे अंधेरा सा छा गया और जब होश आया तो सिर के सारे बाल कटे हुए थे। शोर मचाने पर पड़ोस की महिलाओं ने उसे वहां से उठाया।

बठिंडा में दो व फाजिल्का में एक महिला के बाल कटने की चर्चा

अफवाह है कि महिलाएं जब सो रही होती हैं तो उनके बाल काटे जा रहे हैं। उनमें चर्चा है कि कामकाज करते समय भी एेसा हो रहा है। उस समय उन पर बेहोशी सी छा जाती है। इसी वजह से कई क्षेत्रों में दहशत में आईं महिलाएं न तो रात को खुद सो रही हैं और न ही अपनी बच्चियों को सोने दे रही हैं।

सपना की ननद सुमन ने बताया कि ऐसा सुनने में आया है कि 1008 महिलाओं के बाल काटे जाने हैं। अब तक सवा सौ महिलाओं के बाल काटे जा चुके हैं। महिलाओं ने बाल काटे जाने की घटनाओं से सहम कर सिर पर दुपट्टे बांध लिए हैं। महिलाओं का कहना है कि सिर पर दुपट्टा पहनने से बाल कटने की घटना से बचा जा सकता है।

नरसिंह कालोनी में भी सामने आई चोटी काटने की घटना

डबवाली रोड पर स्थित नरसिंह कालोनी में भी ऐसा बाल काटे जाने का मामला सामने आया है। पीडि़त महिला के पति धर्मबीर ने बताया कि रात को 11 बजे वह सो गई थी और मैं जाग रहा था। कुछ देर बाद उसकी पत्नी ने कहा कि उनकी गर्दन खींची जा रही है। जब देखा तो उसकी चोटी कट कर नीचे गिरी पड़ी थी।
घरों के आगे बांधे नीम

अंधविश्वास के चलते चंदसर बस्ती के लोगों ने अपने घरों के आगे नीम के पत्ते बांध रखे हैं। लोगों का कहना है कि घर के बाहर नीम बांधने से उसने घर पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा।

लोगों को अंधविश्वास से बाहर निकलना चाहिए। कुछ असामाजिक तत्वों ने यह बात फैलाई है। ऐसी जो घटनाएं हो रही है उनकी जांच होनी चाहिए। आने वाले दिनों में लोग दिमागी रूप से बीमार हो सकते हैं और बेहोश हो सकते हैं।

पुलिस का दावा
दिल्ली के एक गांव की भी तीन महिलाओं ने दावा किया है कि उनकी चोटी काटी गई. यही नहीं महिलाओं का दावा है कि चोटी काटने के बाद वो बेहोश हो गईं. हालांकि जब पुलिस ने इस मामले की पड़ताल की और सीसीटीवी फुटेज खंगाला, तो कुछ संदिग्ध नजर आए.
पुलिस यही दावा कर रही है कि कोई चोर चोरी के इरादे से महिलाओं को बेहोशी की कोई दवा सुंघाकर ऐसी वारदात को अंजाम दे रहा है.

Comments

comments